राजस्थान के प्रमुख दर्शनीय स्थल – Tourist Places in Rajasthan in Hindi

राजस्थान में घूमने की जगह – Rajasthan me Ghumne ki Jagah: हमारे देश की सबसे बड़ा, खूबसूरत और अनोखा राज्य है राजस्थान जिसे राजाओं का भूमि भी कहा जाता है। राजस्थान भारत का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल में से भी एक है। यह भारत की उत्तेर पश्चिम दिशा में स्थित है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। 342239 के क्षेत्र फल में फैला राजस्थान इतिहास प्रेमियों, साहसिक प्रेमियों, संस्कृति प्रेमियों, वन्यजीव प्रेमियों और हनीमून के लिए  एक आदर्श स्थान है। इसीलिए यह राज्य न केवल भारत में एक प्रमुख हॉलिडे डेस्टिनेशन के लिए प्रसिद्ध है वल्कि पुरे बिश्व से लाखों पर्यटकों अपनी और आकर्षित करता है।

मेरा सभी को नमस्कार मुझे उम्मीद हे आप सभी बिलकुल अच्छे होंगे। राजपूत संस्कृति के केंद्र के रूप में प्रसिद्ध राजस्थान अपनी जीवंत लोक नृत्य, कला, संस्कृति और संगीतों के अलावा ऐतिहासिक  किलों, विशाल महलों, समृद्ध हस्तशिल्प, स्वादिस्ट भोजन और विस्तृत रेगिस्तान के लिए जाना जाता है। यह राज्य आकर्षणों से भरा हुआ है जो सभी पर्यटकों को जिनमे सबसे अधिक देखे जाने वाले जगहों में से जयपुर, उदयपुर, जैसलमेर, जोधपुर, बीकानेर और माउंट अबू शामिल है जो बड़ी संख्या में पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं और इनमें विदेशी पर्यटक भी बड़ी मात्रा में शामिल होते हैं। अगर आप भी इस अद्भुत और खूबसूरत राज्य की यात्रा के लिए योजना  कर रहे हैं तो निश्चित हो जाये क्यों कि इस लेख में हम आप को राजस्थान के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं। 

राजस्थान में घूमने की जगह - Rajasthan me Ghumne ki Jagah

और पढ़े : कन्याकुमारी में घूमने के लिए दर्शनीय स्थल

Table Contents

राजस्थान में घूमने की जगहा जयपुर – Rajasthan me Ghumne ki Jagah Jaipur

राजस्थान की राजधानी जयपुर को गुलाबी नगरी (Pink City) के नाम से भी जाना जाता हे। राजस्थान की राजधानी होने के साथ साथ जयपुर एक ऐतिहासिक नगर भी है। हरी भरी अरावली पर्वतमालों से 3 ओर से घिरा इस शहर को 1727 में कछवाहा महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने बसाया था। उनके नाम पर ही इस नगर का नाम जयपुर पड़ा था। जयपुर शहर अपने किलों, महलों ओर हवेली के लिए प्रसिद्ध है, ओर यहाँ पर इमारतों का  निर्माण के लिए गुलाबी रंग पत्थरों का प्रयोग किया जाता है। इसीलिए इस शहर को भारत का पेरिस भी कहा जाता है।

और पढ़े : जयपुर में घूमने की जगह के बारे में जानकारी

राजस्थान  में घूमने की जगह हवा महल – Rajasthan me Ghumne ki Jagah Hawa Mahal

हवा महल भारतीय राज्य राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित हे जो अपनी  सुंदरता और अनोखी बास्तु कला के लिए दुनिया भर में फेमस हे। इस पांच मंजिला महल को  सवाई प्रताप सिंह ने 1799 में बनाया था, और इसे किसी राजमुकुट की तरह वास्तुकार लाल चंद उस्ता द्वारा डिजाइन किया गया था। इसकी  पांच मंजिला इमारत जो ऊपर से तो केवल डेढ़ फुट चौड़ी है, बाहर से देखने पर मधुमक्खी के छत्ते के आकर दिखाई देती है, जिसमें 953 बेहद सूंदर और आकर्षक छोटी छोटी खिड़कियाँ हैं। कहा जाता है की इस महल के खिड़कियां में से राजघराने की महिलाएं ठंडी हवा का आनंद लेती थी।

राजस्थान की दर्शनीय स्थल जयगढ़ किला – Tourist Places in Rajasthan in Hindi Jaigarh Fort

जयगढ़ किला राजस्थान की राजधानी जयपुर से करीब 15 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है। यह एक ऐतिहासिक किला है जो, अरावली की पहाड़ियों पर चील का टीला पर स्थित है। इस किले में रखी जय बन तोप एशिया की सबसे बड़ी तोप मानी जाती है। इस खूबसूरत किले को सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा 1726 में आमेर किले की सुरक्षा के लिए बनाया गया था। बताया जाता है की इस किले का निर्माण पुराणों और शिल्प शास्त्र के अनुसार हुआ था।

राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल अजमेर – Rajasthan ke Pramukh Paryatan Sthal Ajmer

अजमेर राजस्थान की अजमेर जिले  के मध्य में स्थित एक महानगर और  एतिहासिक शहर है , जो जयपुर से करीब 135 किलोमीटर और भारत की राजधानी दिल्ली से करीब 390 की दुरी पर स्थित है। अजमेर अरावली पर्वत श्रेणी की तारागढ़ पहाड़ी की ढाल पर स्थित है। इस शहर की स्तापना 7वी सदी में राजा अजयपाल चौहान द्वारा करवाया गया था। राजस्थान के लगभग बीचोबीच बसा यह शहर अपनी प्राकृतिक रमणीयता और कलात्मक के लिए प्रयटकों के आकर्षण का केंद्र है।

राजस्थान पर्यटन स्थल अढ़ाई दिन का झोंपड़ा – Rajasthan Tourism in Hindi Adhai Din ka Jhonpra

अढ़ाई दिन का झोंपड़ा राजस्थान के अजमेर नगर में स्थित यह एक मस्जिद है। यह ऐतिहासिक इमारत चौहान सम्राट विशालदेव ने 1153 में बनवाई थी। यह एक सांस्कृतिक बिद्यालय था। बाद में शहाबुद्दीन गौरी ने इसे मस्जित का रूप दे दिया। कहा जाता है की यह मस्जित ढाई दिन में बानी थी, इसिलए इसका नाम अढ़ाई दिन का झोपड़ा रखा गया। इस इमारत में 7 मेहराबों बनी हुई हैं। यह मेहराबों हिन्दू मुस्लिम स्थापत्य शिल्पकला के अनूठे उदहारण हैं।

राजस्थान में घूमने की जगह पुष्कर झील – Rajasthan me Ghumne ki Jagha Pushkar Lake 

अजमेर से लगभग 11 किलोमीटर की दुरी पर स्थित पुष्कर एक दर्शनीय स्थान है। यहाँ तीनो और से पहाड़ियों से घिरी खूबसूरत पुष्कर झील के चारों और बहुत से मंदिर और घाट बने हैं। पुष्कर को मंदिरों के शहर  भी कहा  जाता है। इस शहर में लगभग 500 मंदिर हैं। यहाँ अक्टूबर और नवंबर में लगने वाला पुष्कर मेला पर्यटकों को विशेष रूप से आकर्षित करता है।

राजस्थान का लोकप्रिय जगह तारागढ़ किला – Tourist Places in Rajasthan in Hindi Taragarh Fort

तारागढ का दुर्ग राजस्थान में अरावली पर्वत पर स्थित है। ऐतिहासिक दृष्टि से महत्वपूर्ण यह किला समुद्रतल से 2,855 और जमीन से करीब 800 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। इसका निर्माण राजा अजयपाल चौहान ने करवाया था। इस किले से अजमेर शहर बहुत सूंदर दिखाई देता है और राजस्थान में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है।

राजस्थान में घूमने की जगह उदयपुर – Rajasthan me Ghumne ki Jagha Udaipur

पिछोला झील के किनारे पर बसा उदयपुर राजस्थान का एक शहर एवं पर्यटन स्थल है जो अपने इतिहास, संस्कृति और अपने सूंदर पर्यटन स्थान  के लिये दुनिया भर में प्रसिद्ध है। उदयपुर को सैलानिओं का स्वर्ग, राजस्थान की कश्मीर, पूर्ब का वेनिस के नामों से भी जाना जाता है। उदयपुर शहर की स्थापना 1559 में उदयसिंह ने की थी, अरावली पर्वतमाला से घिरे यह शहर राजस्थान का एक मुख्य आकर्षण का केंद्र है।

और पढ़े : उदयपुर टूरिस्ट प्लेस में घूमने की जगह

राजस्थान का फेमस टूरिस्ट प्लेस लेक पैलेस – Rajasthan ka Famous Tourist Places Lake Palace

इस खूबसूरत जल महल का निर्माण महाराणा जगतसिंह द्वितीय ने 1754 में पिछोला झील के मध्य में स्थित एक टापू पैर करवाया था 1950 में इस महल को एक सितारा होटल में परीवर्तित कर दिया गया। यह महल बिश्व के सुंदरतम महलों की गिनिती में आता है। इस महल की दीवारों पर सूंदर चित्रकारी की गई है। यहाँ पहंचने के लिए मोटरबोट, नाव अदि की सुबिधा हेर समय उपलब्ध रहती है। चांदनी रात में पिछोला झील में नौका सवारी का अपना अलग ही मजा है।

राजस्थान के दर्शनीय स्थल गुलाब बाग – Rajasthan Tourist Places in Hindi Gulab Bagh

गुलाब बाग, जिसे उदयपुर चिड़ियाघर भी कहा जाता है, 100 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह वनस्पतियों और जीवों के प्रेमियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण जगह है क्योंकि यह उदयपुर में पाया जाने वाला सबसे व्यापक उद्यान है। इस विशाल पार्क की स्थापना महाराणा सज्जन सिंह ने 1881 में की थी। गुलाब बाग परिसर में एक चिड़ियाघर है, जो कुछ दुर्लभ जानवरों की प्रजातियों हैं और चिड़ियाघर के सात सात छोटे रेलगाड़ी (Toy Train) भी है, जो इस पुरे पार्क का चककर लगती है।

राजस्थान की प्रमुख पर्यटन स्थल जैसलमेर – Tourist Places in Rajasthan in Hindi Jaisalmer

जैसलमेर भारत के राजस्थान प्रांत का एक शहर है। इसे  हवेलियों की नगरी और स्वर्ण नगरी के नाम से जाना जाता है। इस नगर को चंद्रवंशी यादव भाटी जैसल ने 115 में बसाया था। इस शहर की तंग गलियें में पथरीले रास्तें के दानों और पिले पथरों की बड़ी बड़ी हवेलियां हैं, जिनकी वजह से इसे “हवेलियों की नगरी” कहा जाता है। सूरज की रोशनी जब इन पिली हवेलियों पर पड़ती है, तब ये सोने की तरह चमकने लगती हैं। इसीलिए इस शहर को “स्वर्ण नगरी” कहा जाता है। पर्यटन के लिहाज से आज यह शहर बहुत महत्वपूर्ण है। समुद्रतल से लगभग 224 मिटेर की उंचाई पर थार मरुस्थल में इस शहर की अपनी ही सान है।

और पढ़े : जैसलमेर के प्रमुख दर्शनीय स्थल

राजस्थान का ऐतिहासिक जगह जैसलमेर किला – Rajasthan Tourism in Hindi Jaisalmer Fort 

जैसलमेर किले को जैसलमेर की शान के रूप में जाना जाता है। यह किला 80 मिटेर की उंचाई पर त्रिकुटा पहाड़ी पर बना है। इसका निर्माण रावल जैसल ने 1156 में किया था। अखे पोल, सूरज पोल, गणेश पोल और हवा पोल नामक चार दरवाजों वाले इस किले के भीतर मोती महल, रंग महल, राज विलास अदि महल स्थापत्य कला की उत्कृष्ट उदहारण हैं। यहाँ 12 वी से 15 वी शताब्दी के बने कुछ जैन मंदिर भी है, जो दर्शनीय हैं।

राजस्थान का सबसे प्रसिद्ध जगह जोधपुर – Rajasthan Ka Sabse Prasidh Jagha Jodhpur 

सूर्यनगरी के नाम से प्रसिद्ध राजस्थान का जोधपुर थार के रेगिस्तान के बीच अपने ढेरों शानदार महलों, दुर्गों और मन्दिरों के लये प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है, और राजस्थान की राजधानी जयपुर से 335 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है। राजस्थान के अन्य शहरों की अपेक्षा यहाँ सूर्य का प्रकाश ज्यादा देर तक रहता है, इसीलिए इसे सूर्यनगरी कहा जाता है। इस शहर की स्थापना सूर्यवंशी राजा राव जोधा ने 12 मई, 1459 को की थी। उन्हीके नाम से ही इस नगर का नाम जोधपुर पड़ा। यहां स्थित मेहरानगढ़ दुर्ग को घेरे हुए हजारों नीले मकानों के कारण इसे “नीली नगरी” (Blue City) के नाम से भी जाना जाता था।

 राजस्थान में घूमने की जगह मेहनगढ किला – Place to Visit in Rajasthan in Hindi Mehrangarh Fort 

मेहरानगढ दुर्ग भारत के राजस्थान प्रांत में जोधपुर शहर में स्थित है। 15वी शताब्दी में बना यह किला शिल्प कला का उत्कृष्ट नमूना है। यह शहर से करीब 5 किलोमीटर दूर 400 फुट ऊँची एक पहाड़ी पर बना है। इसकी सुंदरता दूर से ही नजर अति है। इस दुर्ग की स्थापना राव जोधाजी ने मई,1454 में की थी। यह दुर्ग देश के गौरव तथा लोक संस्कृति का जीता जगता उदहारण है।

राजस्थान का सबसे मशहूर पर्यटन स्थल उम्मीद भवन पैलेस – Rajasthan Tourism in Hindi Umaid Bhawan Palace 

उम्मैद भवन पैलेस राजस्थान के जोधपुर ज़िले में स्थित एक महल है। उम्मेद भवन पैलेस जोधपुर के मुख्य आकर्षण में से एक है। यह शहर से लगभग 2 किलोमीटर  दूर एक छोटी टेकरी पर बना है। इसका निर्माण महाराजा उम्मेद सिंह ने 1982-42 में करवाया था। इस पैलेस का डिज़ाइन Royal Institute of Architects , लंदन के अध्यक्ष रहे वास्तुकार H.V Lanchester ने तैयार किया था। वर्तमान में यह पैलेस 3 भागों में बंटा है और इसके एक भाग में राजा परिवार रहता है, दूसरे भाग में वेलकम ग्रुप का आलीशान होटल है तथा तीसरी भाग में संग्राहलय है जो पर्यटक के लिए खुला है।

राजस्थान के दर्शनीय स्थल मंडोरा गार्डन – Rajasthan Tourist Places in Hindi, Mandora Garden 

मंडोर उद्यान जोधपुर का एक प्रमुख दर्शनीय पर्यटन स्थल है। मण्डोर का प्राचीन नाम माण्डवपुर था। यह पुराने समय में मारवाड़ राज्य की राजधानी हुआ करती थी। यह गार्डन शहर से 10 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ है। यह गार्डन 82 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। यह गार्डन केबल साधारण बगीचें की तरह फूलों की क्यारियों, हरी भरी घास और फव्वारे का संगम नहीं है, बल्कि यहाँ जोधपुर मारवाड़ के पूर्व नरेशों की स्मृति में कई छतरियां और देवल बने हुए हैं। इनमे महाराजा अजित सिंह और जसवंत सिंह की छतरियां विशेष रूप से दर्शनीय है।

राजस्थान की ऐतिहासिक जगहा चित्तौरगढ़ – Tourist Places in Rajasthan in Hindi Chittorgarh

चित्तौड़गढ़ भारत के राजस्थान राज्य के चित्तौड़गढ़ ज़िले में स्थित एक नगर है। यह मेवाड़ की प्राचीन राजधानी थी। इसिहास में वीरों की भूमि चित्तौड़गढ़ का अपना विशेष महत्व है। उदयपुर से मात्र 112 किलोमीटर की दूर चित्तौड़गढ़ एक ऐतिहासिक स्थान है। देश विदेश में अपनी अलग पहचान बनाने वाला चित्तौड़गढ़ दुर्ग राजस्थान भ्रमण पर आए पर्यटक के आकर्षण का मरमुख केंद्र है। बेड़च और गंभीरी के संगम के पास लगभग 500 फुट ऊँचे एक भीमकाय पहाड़ पर निर्मित यह दुर्ग 5 किलोमीटर लंबा और एक किलोमीटर छोड़ा है। क्षेत्रफल की दृष्टी से यह देश का सबसे बड़ा दुर्ग मन जाता है और समुद्रतल से इसकी ऊंचाई लगभग 1850 फुट है। इस दुर्ग में भामाशाह जैसे देशभक्त और कर्णावती जैसे बहनों की गौरव गाथाएं आज भी गूंजती हैं। इस गड में अनेक प्राकृतिक झीलों,  झरने, कुंड अदि देखने लायक हैं।

राना कुम्भा पैलेस – Rana Kumbha Palace 

राणा कुम्भ महल राजस्थान की चित्तौड़गढ़ जिले में स्तिथ एक  ऐतिहासिक स्मारक है जहाँ राजपूत राजा महाराणा कुम्भा ने अपना शाही जीवन बिताया। भारत की बेहतरीन संरचनाओं में से एक, यह किला 15वीं शताब्दी में बनाया गया था। यह महल भारतीय स्थापत्य कला का उत्कृष्ट नमूना है, और पर्यटकों का एक  पसंदिता जगहा भी है।

राजस्थान का महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल बिजय स्तंभ – Rajasthan Tourism in Hindi Bijay Stambh 

विजय स्तंभ  भारत के राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में स्थि है। इस स्तंभ का निर्माण महाराणा कुम्भ ने मालवा के सुल्तान महमूद खिलजी और गुजरात के सुल्तान क़ुतुबुद्दीन की सेना पर बिजय प्राप्त करने की याद में इसे बनाया था। 120 फीट ऊंचा, 9 मंजिला यह स्तंभ भारतीय स्थापत्य कला की सुन्दर कारीगरी का नायाब नमूना है। इसमें ऊपर तक जाने के लिए 157 सिडिया है। इस स्तंभ के भीतर और बहार भागों पर सेकड़ों मुर्तिया है जो, इस स्तंभ का इतिहास दर्शाता है।

राजस्थान का सबसे प्रसिद्ध जगह माऊंट अबू – Tourist Places in Rajasthan in Hindi Mount Abu

समुद्र तल से 1200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित माउंट अबू  राजस्थान में स्तिथ है, और माउंट आबू की सबसे ऊँची चोटी गुरु शिखर है।। माउंट अबू अरावली पर्वत के दक्षिण में बसा एक बहुत खूबसूरत पर्यटन स्थल है। इस जगहा की सांत वातावरण और खूबसूरत हरियाली पर्यटकों काफी आकर्षित करता है। यह स्थान दिलवाड़ा जैन मंदिरों के लिए भी प्रसिद्ध है।

राजस्थान में घूमने की जगह निक्की झील – Rajasthan me Ghumne ki Jagha Nakki Lake

नक्की झील माऊंट आबू के एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है। यह एक कृतिम लेक है। प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर यह झील चारों ओऱ पर्वत शृंखलाओं से घिरी है। यह झील मीठे पानी की है, जो सर्दियों में  जम जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस झील को हिन्दू  देवताओं  ने अपने नाखूनों से खोदकर  बनाई थी। इसीलिए इसे नक्की नाम से जाना जाता है। प्राकृतिक संदरिया से भरपूर यह झील पर्यटकों को अपने और आकर्षित करता है। विशेष रूप से  पर्यटक यहाँ पर नौका विहार का भरपूर आनद उठा सकते है। झील के बीचोबीच बना एक टापू भी पर्यटकों का दूसरा आकर्षण केंद्र है।

राजस्थान में घूमने वाली जगह भरतपुर – Rajasthan me Ghumne Wali Jagha Bharatpur

भरतपुर राजस्थान की एक ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है, जो जयपुर से करीब 190 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है। पुराने समय से ही भरतपुर का अपना ही महत्वा रहा है। भरतपुर की स्थापना 1733 में जाट राजा, महारजा सूरजमल ने की थी। इसे अजेय  लोहगढ़ के नाम से जाना जाता है। यहाँ की इतिहास काफी गौरवशाली और महत्वपूर्ण रहा है, साथ ही भरतपुर पर्यटन स्थल की दुनिया में अलग ही पहचान है। यहाँ कई धार्मिक और ऐतिहासिक पर्यटन स्थल मजूद है, जो पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है।

राजस्थान में ऐतिहासिक स्थान लोहगड किला – Rajasthan Tourism in Hindi Lohagarh Fort

लोहगड की किला राजस्थान की भरतपुर शहर  में स्थित एक ऐतिहासिक किला है, जिसको 18वी  शताब्दी में जाट के राजा सूरजमल ने करवाया थे। यह किला इतिहास में बने सबसे मजबूत किला है, जिसको जितपाना लगभग असम्भब था। इस किले पर कई बार हमला हुआ लेकेन इस किले के आगे कोई नहीं टिक पाया। 19 वी शताब्दी में अंग्रेजों ने इसे जितने का प्रयास किया लकिन वो भी सफल नहीं हो पाए थे। किले के चारों ओर जाट शासक द्वारा गहरी खाई निर्माण की गई जिसमे पानी भर दिया गया, जैसे हम सुजान गंगा के नाम भी जाना जाता है। यह किला जाट राजाओं का युद्ध कौशल, साहस और बुद्धि का एक बेमिशाल नमूना है

राजस्थान की मशहूर जगहा केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान – Keoladeo National Park Rajasthan  

केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान या केवलादेव घना राष्ट्रीय उद्यान भारत  में स्तिथ एक प्रसिद्ध पक्षी उद्यान है, जो भरतपुर में स्तिथ हे। यह पक्षी अभयारण शहर से करीब 3 किलोमीटर की दुरी पर स्तिथ है। इसको पहले भरतपुर पक्षी बिहार के नाम से जाना जाता था। 1985 में, इसे यूनेस्को की बिश्व धरोहर स्थल के रूप में घोषित किया गया। यह पार्क  29 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है जिसमे देश बिदेश से आये बिभिन प्रकार के पक्षियों को देखा जा सकता है। इस राष्ट्रीय उद्यान में आने वाले आंगतुक साइबेरिया, अफ़ग़ानिस्तान और मध्य एशिआ के पक्षियों की नस्ल पाया जाता है।  इसके अलावा यहां कई प्रकार की जीव जंतुओं की प्रजाति भी है, जो पर्यटकों को अपने और आकर्षित करता है।

राजस्थान में घूमने की जगह बीकानेर – Rajasthan me Ghumne ki Jagah Bikaner

बीकानेर राजस्थान राज्य की उत्तेर पश्चिम में स्थित एक ऐतिहासिक शहर है, जो थार रेगिस्तान का हेसा है। यह शहर राजस्तान की राजधानी जयपुर से तक़रीबन  330 किलोमीटर और भारत की राजधानी दिल्ली से 450 की दुरी पर बसा बीकानेर, भारत का एक ऐसा शहर है जहाँ जैसलमेर के बाद सबसे अधिक ऊंट पाया जाता है। बीकानेर का पुराना नाम जांगलदेश था। यह एक ऐसा शहर है जो इतिहास प्रेमिओं को काफी आकर्षित करता है। क्यूंकि यहाँ की गौरवशाली इतिहास और पौराणिक कहानिया पर्यटकों अपने और खिंच ता है। बीकानेर शहर की स्थापना 1488 में राव जोधाजी के सुपत्र बीकाजी द्वारा स्तापित किया गया था, जो राजस्थान में जनसँख्या के हिसाब से चौथा जनसंख्या वाला शहर है। बीकानेर ऊंटों के सफर के लिए बिश्व प्रसिद्ध है। देश बेदेश के सैलानी यहाँ ऊंटों की सवारी का आनंद लेने आते हैं।

राजस्थान में ऐतिहासिक जूनागढ़ किला – Junagarh Fort Rajasthan 

जूनागढ़ किला  एक ऐतिहासिक किल्ला है, जो राजस्थान की थार मरुस्थल के मध्य में स्थित है । इस किले का निर्माण राजा रायसिंह द्वारा 1588-1593 के बिच किया गया था। यह एक भव्य किला है, जो अपनी स्वाभिमान के साथ खड़ा है। मूल रूप से इस किले का नाम चिंतामणि था जैसे 20वी शताब्दी में जूनागढ़ नाम से पहचान मिला। इस किले को  निर्माण लाल बलवा पत्थर से किया गया है। इस किले की चारो तरफ 1 किलोमीटर की दीवार बनी हुई है। जूनागढ़ किला अपने विशालता के लिए प्रसिद्ध है।

राजस्थान में घूमने की जगह कुम्भलगढ़ किला – Rajasthan me Ghumne ki Jagha Kumbhalgarh Fort 

कुम्भलगढ़ किला अरवली पर्वत की पश्चिमी सिमा पर स्तिथ मेवाड़ का किला है, जो राजस्थान के राजसमंद जिले में स्थित है। लगभग 1000 मिटेर की ऊंचाई पर बना ऐतिहासिक कुम्भलगढ़ का किला पर्यटकों को अपने और आकर्षित करता है। उदयपुर से लगभग 85 किलोमीटर और राजस्थान की राजधानी जयपुर से करीब 340 किलोमीटर की दुरी पर स्थित इस दुर्ग का निर्माण महाराजा कुम्भा ने 1448 में करवाया था। इस किले ने अनेक बार शत्रुओं के आक्रमण का सामना किया और हर बार यह अजय रहा। इस दुर्ग में जहाँ महाराणा सांगा का बचपन बीती। वही राणा कुम्भा ने यहाँ से मेवाड़ा का शासन चलाया। आज यह किला अपनी प्रकृतिक सुंदरता और ऐतिहासिक गाथाओं के लिए दुनिया भर में मशहूर है।

राजस्थान घूमने के लिए सही समय – Best time to visit Rajasthan in Hindi 

राजस्थान में घूमने के लिए जगहा : ऐसा माना जाता है की राजस्थान घूमने की  सही समय नवंबर से फ़रवरी का महीना बहुत अनुकूल है। लकिन आप पुरे साल में कभी भी राजस्थान घूम सकते है। गर्मियों के  मौसम में राजस्थान के कुछ क्षेत्र में भीषण गर्मी पड़ती है, जो घूमने के लिहाज़ से बिलकुल अनुकूल नहीं है और रात के समय भीषण ठण्ड के कारण यात्रा करना मुश्किल हो सकता है। इसीलिए आप पूरी तैयारी के साथ राजस्थान का यात्रा करें।

राजस्थान का स्थानीत भोजन – Local Food In Rajasthan In Hindi

राजस्थान अपनी महलों, किलो, संस्कृति, लोक परम्परा ओर बजारों के साथ साथ स्थानिय भोजन के लिए बोहत ही प्रसिद्ध है। राजस्थान के लोग अधिकतम मसालेदार खाना और मिठाईयां भी काफी पसंद करते है। आप राजस्थान जा रहे है तो जरूर यहां का स्थानीय भोजन का टेस्ट करें और आनंद उठाएं। राजस्थान का स्थानीत खाने में टैंगी वेजी करी मसालेदार मीट है इसके अलावा गट्टे की सब्जी, लाल मास, मावा कचौड़ी, मिर्च वडा, केर सांगरी आदि बोहत ही स्वादिष्ट भोजन है।

राजस्थान कैसे पहंचे – How to Reach Rajasthan in Hindi 

वायु मार्ग – By Air : राजस्थान की यात्रा करने का सबसे आसान तरीका हवाई मार्ग है। आप जयपुर, उदयपुर और जोधपुर  के लिए सीडी उड़ान ले सकते हैं।  भारत की सभी प्रमुख शहरों से वायु सेवाएं उपलब्ध है।

रेल मार्ग – By Train : जयपुर के लिए देश के विभिन्न शहरों से रेल मार्ग सीधी पहंचा जा सकता है यहाँ के लिए सुपरफास्ट और शताब्दी एक्सप्रेस सहित कई रेल सेवाएं उलब्ध है।

सड़क मार्ग – By Road : जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग से  देश के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। दिल्ली सहित कई राज्य से यहाँ के लिए सीधी बस सेवाएं उपलब्ध है।

Frequently Asked Questions About Rajasthan In Hindi

Q.1:- राजस्थान का राजधानी क्या है ?

A:-राजस्थान का राजधानी जयपुर है ।

Q.2:-राजस्थान मैं घुमने के लिए सबसे प्रसिद्ध जगह कोन कोन सा है ?

A:-राजस्थान में घुमने के लिए जोधपुर, अजमेर, पुष्कर, भरतपुर, जयपुर ओर उदयपुर आदि सबसे अधिक प्रसिद्ध है।

Q.3:-राजस्थान में सबसे अधिक कोन सी भाषा का प्रचलित होता है ?

A:-राजस्थान में हिंदी ,राजस्थानी, मारवाड़ी भाषा का सबसे अधिक प्रचलित होता है।

Q.4:-राजस्थान का लागभग जनसंख्या कितना है ?

A:-राजस्थान का लगभग जनसंख्या 6.89 है।

Q.5:-राजस्थान प्रथम निर्माण करने के लिए कब कदम उठाया गया था ?

A:-राजस्थान प्रथम निर्माण करने के लिए 17 मार्च 1948 मैं कदम उठाया गया था।


और पढ़े : 

1 thought on “राजस्थान के प्रमुख दर्शनीय स्थल – Tourist Places in Rajasthan in Hindi”

Leave a Comment