एल्लोरा केव्स की इतिहास, वास्तुकला और घूमने की जानकारी – Ellora Caves Information in Hindi

Ellora Caves in Hindi: महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद शहर से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ एलोरा गुफाएं  भारत के सबसे प्राचीन ऐतिहासिक गुफाओं में से एक है जिसे स्थानीय रूप से वेरुल लेनी के नाम से जाना जाता है। यह एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थल है जो बिश्व भर में प्रसिद्ध है और देश का एक अनूठा आकर्षण है। एलोरा में कुल 34 गुफाएं हैं जो हिन्दू, बौद्ध और जैन वास्तुकला से प्रेरित हैं और इतिहास प्रेमियों के लिए एक आदर्श जगह है।

दुनिया के सबसे रॉक-कट गुफा मंदिरों में से एक एलोरा गुफाएं बिश्व धरोहर स्थल है। इन गुफाएं की निर्माण की बात करें, तो यह गुफाएं भारत का सबसे प्राचीन गुफाएं हैं जिन्हें राष्ट्रकूट राजवंश द्वारा निर्माण किया गया था। इन गुफाओं की लोकप्रियता आप इसी बात पर अंदाजा लगा सकते हैं की महाराष्ट्र की इस ऐतिहासिक खूबसूरती को देखने के लिए रोजाना हजारों के तादात में पर्यटक आते हैं और इनमें अंतरराष्ट्रीय पर्यटक भी शामिल हैं।

एलोरा के गुफाएं पूरी दुनिया में चट्टान को काट कर बनाये गए सबसे बड़े मठ मंदिर परिसर है जिसमें बौद्ध धर्म, हिंदू धर्म और जैन धर्म की कलाकृति और स्मारकों को प्रदर्शित करती हैं। एलोरा गुफाओं के समूह में कुल 100 गुफाएं हैं, जिनमें से केवल 34 गुफाएं ही पर्यटकों के लिए हैं। इस समूह में 12 बौद्ध गुफाएं, 5 जैन गुफाएं और 17 हिन्दू गुफाएं शामिल हैं। एलोरा गुफा की सबसे महत्वपूर्ण गुफा संख्या 16 में स्तिथ कैलाश मंदिर सबसे प्रभावशाली गुफा मंदिर है जो भगवान शिव के निवास स्थान माना जाता है। यह शिव का 2 मंजिला मंदिर पर्वत चट्टान को काट कर बनाया गया है जिसका नाम हिमालय की कैलाश पर्वत की नाम पर रखा गया है और इसका निर्माण राष्ट्रकूट वंश से शासक कृष्ण प्रथम ने किया था।

ellora caves in hindi

और पढ़े : उज्जैन के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल और घूमने की जानकारी

Table Contents

एलोरा गुफा की इतिहास – Ellora Caves History in Hindi

एलोरा की गुफाओं का निर्माण 600 से 1000 सीई तक किया गया था। माना जाता है की हिन्दू और बौद्ध गुफाओं का निर्माण राष्ट्रकूट राजवंश के शासन कल के दौरान किया गया था, जबकि जैन गुफाओं का निर्माण यादव वंश द्वारा किया गया था। लेकिन आज भी यह स्पष्ट नहीं हुआ कि कौन सी गुफा पहले बनाई गई थी। यहाँ 5 जैन गुफाएं, 12 बौद्ध गुफाएं और 17 हिन्दू गुफाएं हैं जिनमें देवताओं, नक्काशी और मठ भी शामिल हैं जो सभी धर्म कि पौराणिक कथाओं को दर्शाते हैं। पुरातात्विक सर्वेक्षणों के  अनुसार  एलोरा कि गुफाओं का निर्माण 3 चरणों में हुआ था। पहला चरण 550 से 600 सीई तक शुरू हुआ, जबकि दूसरा चरण 600 से 730 सीई तक चला। निर्माण का अंतिम चरण 730 से 950 सीई तक चला था।

एलोरा गुफाओं कि वास्तुकला – Architecture of Ellora Caves (alora ki Gufa) in Hindi

ellora caves in hindi

एलोरा कि गुफाएं वास्तुकला का एक अद्भुत उदहारण हैं जो औरंगाबाद में सह्याद्री पहाड़ियों में स्थित हैं। इन गुफाओं का निर्माण बेसाल्ट चट्टानों को काट कर बनाया गया है। 1.2 मील में फैले, एलोरा गुफाओं में 1-12 बौद्ध गुफाएँ हैं, गुफाएँ 13-29 हिंदू गुफाएँ हैं और गुफाएँ 30-34 जैन गुफाएँ हैं। ये गुफाएं एक दूसरे के करीब बनी हैं जो देश में धर्मों के बीच सद्भाव को दर्शाती हैं। इन गुफाओं को मूर्तियों, भित्ति चित्रों और विस्तृत नक्काशी से सजाया गया है। इन विशाल संरचनाओं की कुछ सबसे लोकप्रिय गुफाओं में विश्वकर्मा गुफा (गुफा संख्या -10), कैलाश मंदिर (गुफा सांख्य -16), दशावतार गुफा (गुफा सांख्य -15) और भी बहुत कुछ शामिल हैं।

एलोरा गुफाओं के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य – Important Fact about Ellora Cave in Hindi 

  • महराष्ट्र के औरंगाबाद शहर से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ एलोरा की गुफाएं भारत सबसे प्राचीन गुफाएं हैं जिसे स्थानियों लोगो के द्वारा वेरुल लेनी कहा जाता है।
  • अजंता गुफाओं के बिपरीत जो पूरी तरह से बौद्ध धर्म को समर्पित है, एलोरा की गुफाएं तीन धर्मों को समर्पित है जो बौद्ध धर्म, हिंदू धर्म और जैन धर्म हैं।
  • एलोरा के गुफा सरचनाओं में 100 से अधिक गुफाएं हैं, लेकिन दर्शकों के लिए सिर्फ 34 गुफाएं खुली रहती है।
  • एलोरा की गुफाएं असाधारण वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध हैं जो 12 बौद्ध, 17 हिंदू और 5 जैन गुफाएं का समूह है।
और पढ़े : औरंगबाद के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल 

एलोरा में बौद्ध गुफाएं – Alora ki Gufa me Buddhist Caves 

एलोरा गुफाएं परिसर के दक्षिण हिस्सों में स्तिथ बौद्ध गुफाओं का निर्माण 600 से 730 ईस्वी के दौरान होने का अनुमान है। पहले यह माना जाता था कि बौद्ध गुफाओं का निर्माण हिंदू गुफाओं से पहले किया गया था, लेकिन इस सिद्धांत को खारिज कर दिया गया था और पर्याप्त सबूतों के साथ यह स्थापित किया गया था कि बौद्धों के अस्तित्व में आने से पहले हिंदू गुफाओं का निर्माण किया गया था। सबसे पहले बनने वाली बौद्ध गुफा गुफा 6 थी, जिसमें गुफा 11 और 12 अंतिम थी। इन गुफाओं में मठ, मंदिर हैं जिनमें नक्काशी, चित्रों, मूर्तियों और भित्ति चित्रों से सजाया गया है जो भगवान बुद्ध के जीवन को दर्शाती हैं।

एलोरा में हिंदू गुफाएं – Hindu Caves in Ellora Caves in Hindi

एलोरा में हिंदू गुफाएं, गुफा संख्या 13 से 29 तक हैं जो परिसर के बिच स्तिथ है। गुफा संख्या 15 में दशावतार की मूर्तियां हैं जो विष्णु के दस अवतारों को दर्शाती हैं। एलोरा की सभी गुफाओं में गुफा संख्या 16 सबसे महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध गुफा माना जाता है जिसे कैलाश गुफा मंदिर कहा जाता है। इस गुफा मंदिर का निर्माण राष्ट्रकूट राजवंश के राजा कृष्ण प्रथम के शासनकाल के दौरान किया गया था। यह गुफा मंदिर मुख्य रूप से भगवान शिव को समर्पित है और उनके पवित्र निवास स्थान माना जाता है। गुफा संख्या 21 को रामेश्वर गुफा के नाम से जाना जाता है जो अपनी मूर्तिकला और अनूठी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। गुफा संख्या 29 जिसे धूमर लीना के नाम से जाना जाता है, और इसमें शिव और पार्वती, विष्णु और ब्रह्मा और गुफा में अन्य मूर्तियों को देखा जा सकता है।

एलोरा में जैन गुफाएं – Ellora ki Guphayen Jain Caves 

गुफा संख्या 30 से गुफा संख्या 34 मुख्य रूप से जैन गुफाएँ हैं जो एलोरा गुफाओं के उत्तर में स्थित है। गुफा 32 (इंद्र सभा) एक उल्लेखनीय गुफा है क्योंकि इसे छोटा कैलाश भी कहा जाता है। इसमें जैन तीर्थंकरों पार्श्वनाथ, महावीर और गोमतेश्वर का चित्रण है। दीवारों पर कुछ पेंटिंग हैं जो समय की कसौटी पर खरी उतरी हैं। यह जैन समुदाय द्वारा बड़े पैमाने पर पूजा के प्रमाण के रूप में कार्य करता है।

एलोरा केव्स में घूमने के लिए महत्वपूर्ण गुफाएं – Tourist Attraction in Ellora Caves in Hindi

गुफा संख्या 16, कैलाश मंदिर – Cave 16, Kailash Temple

ellora caves in hindi

एलोरा गुफाओं के परिसर में स्तिथ कैलाश मंदिर सबसे महत्वपूर्ण आकर्षणों में से एक है और यहाँ आने वाले सभी लोगों का प्रमुख आकर्षणों का केंद्र है। भगवान शिव को समर्पित कैलाश मंदिर गुफा, गुफा संख्या 16 में अन्य एलोरा गुफाओं में सबसे प्रसिद्ध है और मंदिर एक रथ के आकार में बनाया गया है। एलोरा गुफाओं में सबसे पुराने हिंदू मंदिरों में से एक होने के कारण मंदिर की वास्तुकला असाधारण है। सबसे खास बात यह है की इस विशाल सरंचना को एक विशाल एकल चट्टान से उकेरा गया है। यहाँ आप अर्धनारीश्वर, हरिहर, दुर्गा, अन्नपूर्णा, अग्नि, सूर्य, वायु और अन्य कई पौराणिक देवी देवताओं को देख सकते हैं। इस गुफा मंदिर का नाम प्रसिद्ध तीर्थस्थान कैलाश पर्वत से लिया गया है।

गुफा संख्या 10, विश्वकर्मा गुफा – Cave 10, Viswakarma Cave

alora ki gufa, vishwakarma temple

एलोरा गुफाओं में बौद्ध गुफाओं में सबसे प्रसिद्ध  गुफा संख्या 10 जिसे विश्वकर्मा गुफा के नाम से जाना जाता है, यह बौद्ध गुफाओं से सबसे उल्लेखनीय गुफा है जिसका निर्माण 650 ईस्वी के दौरान किया गया था। यह एक प्रसिद्ध बौद्ध प्रार्थना कक्ष है जिसे बढ़ई गुफा भी कहा जाता है क्योंकि यहाँ चट्टान को काट कर लकड़ी का रूप दिया गया है। गुफा में भगवान बुद्ध की एक विशाल प्रतिमा है जिसका ऊंचाई 15 फीट है। यह गुफा एलोरा की सबसे सुंदर  गुफाओं में से एक है।

गुफा संख्या 21, रामेश्वर गुफा – Cave 21, Rameshwar Cave

गुफा संख्या 21, जिसे रामेश्वर गुफा कहा जाता है, यह एलोरा में सबसे शानदार गुफा है। इस गुफा में देवी पार्वती के जीवन, भगवान शिव के साथ उनकी शादी, शिव के नृत्य और अन्य कई कहानी का वर्णन करने वाली नक्काशी हैं। रामेश्वर गुफा की खुदाई छठी शताब्दी ईस्वी के अंत में की गई थी और माना जाता है कि एलोरा में हिंदू गुफाओं में सबसे पहले और एलोरा में उल्लेखनीय गुफाओं में से एक है। एलोरा में यह गुफा अपनी मूर्तिकला और अद्भुत सुंदरता के लिए काफी लोकप्रिय है।

गुफा संख्या 12, तीन ताल गुफा – Cave 12, Teen Tal Cave

तीन ताल गुफा एलोरा में एक शनदार गुफा है जो एक बौद्ध गुफा है। इस गुफ का नाम तीन ताल इसलिए पड़ा है क्योंकि यह तीन मंजिला गुफा परिसर है और एलोरा में सबसे बड़ा मठ परिसर है। यहां भगवान बुद्ध के विभिन्न आकृतियों और कई आकारों की कलाकृतियां देखने को मिलती है। इसके अलावा यहाँ सरस्वती, लक्ष्मी और अन्य  कुछ हिंदू देवी-देवताओं को भी देखा जा सकता है जो वास्तव में अद्भुत है।

गुफा संख्या 29, डूमर लीना – Cave 29, Dumar Lena Cave

धूमर लीना गुफा एलोरा में एक प्राचीन गिफा है। इस गुफा मंदिर में एक शिवलिंग है और तीर्थयात्रियों के लिए परिक्रमा करने के लिए लिंग के चारों ओर एक महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। साथ ही इस गुफा में प्राकृतिक जलप्रपात है जो एक आश्चर्यजनक दृश्य प्रस्तुत करता है। मानसून के मौसम के दौरान, झरना सीधे लिंग पर बहता है। गुफा की वास्तुकला और नक्काशी वास्तव में अद्भुत है और एलोरा के सभी गुफाओं में सबसे शानदार गुफा है।

गुफा संख्या 32, इन्द्र सभा – Cave 32, Indra Sabha Cave

गुफा संख्या 32, जिसे इन्द्र सभा के नाम से जाना जाता है जो एलोरा के सभी जैन गुफा मंदिरों में सबसे बड़ा और बेहतरीन है। हालाँकि यह गुफा मुख्य रूप से जैन धर्म को समर्पित है और इसमें जैन पौराणिक कथाओं से संबंधित कई देवी देवता चित्र हैं।

गुफा संख्या 15, दशावतार गुफा – Cave 15, Dashavatara Cave

गुफा संख्या 15 को दशावतार गुफा मंदिर कहा जाता है जो एलोरा की सबसे बेहतरीन और लोकप्रिय गुफाओं में से एक है। इस  गुफा में मूर्तियां मुख्य रूप से भगवान शिव और भगवान विष्णु को विभिन्न रूपों में दर्शाती हैं। माना जाता है की यह गुफा पहले बौद्ध मंदिर था, लेकिन बाद में इसे हिंदू सरांचा में बदल दिया गया।

गुफा संख्या 30, छोटा कैलाश – Cave 30, Chota Kailash Cave

यह गुफा एलोरा में अन्य गुफाओं के तुलना में छोटा है, लेकिन कैलाश मंदिर की स्थापत्य समानता के कारण इसे  छोटा कैलास कहा जाता है। इस गुफा परिसर में नृत्य करने वाली इंद्र की दो बड़े आकार की मूर्तियां हैं, एक आठ भुजाओं वाली और दूसरी बारह के साथ, दोनों पूर्ण आभूषण और मुकुट के साथ हैं। इसे एलोरा की गुफाओं में घूमने के लिए सबसे प्रसिद्ध स्थान माना जाता है।

गुफा संख्या 14, रावण का खाई – Cave 14, Ravan ka Khai

गुफा संख्या 14 जिसे  रावण का खाई कहा जाता है, यह एलोरा में एक प्रसिद्ध गुफा है जिसमें एक बड़ा मंदिर और एक खंभों वाला हॉल है। यह एक हिंदू गुफा है जहाँ  भगवान  शिव और देवी पार्वती के विभिन्न मूर्तियां हैं। इसके अलावा यहाँ भगवान विष्णु के मूर्तियां हैं। सबसे आकर्षक देवी पार्वती भैंस के रूप में एक राक्षस को मार रहे हैं।

एलोरा के आस पास घूमने की जगह – Tourist Places Around Ellora Caves in Hindi

ग्रिशनेश्वर मंदिर –  Grishneshwar Temple 

एलोरा गुफाओं से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ ग्रिशनेश्वर मंदिर एक प्राचीन हिंदू मंदिर है जो मुख्य रूप से भगवान शिव को समर्पित है और पृथ्वी पर 12वें और अंतिम ज्योतिर्लिंग का घर है। माना जाता है की इस मंदिर का निर्माण 13 वीं शताब्दी में किया गया था, लेकिन मुगलों शासनकाल के दौरान इस मंदिर को बार बार नष्ट कर दिया गया। आज यह मंदिर भारत का एक प्रतिष्ठित मंदिर है और अत्यधिक धर्मिक महत्व के कारण महाराष्ट्र में एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है।

दौलताबाद किला –  Daulatabad Fort

दौलताबाद किला महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर में स्तिथ एक ऐतिहासिक किला है जो एक एक शंक्वाकार पहाड़ी के ऊपर स्थित है और समुद्र तल से लगभग 200 मीटर की ऊंचाई पर स्तिथ है और चरों ओर खड़ी पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यह प्रसिद्ध स्थान एलोरा केव्स से करीब 14 किलोमीटर की दूरी पर है। 

बीबी का मकबरा – Bibi ka Maqbara

बीबी का मकबरा एलोरा गुफाओं के आसपास घूमने के लिए एक बहेतरीन ऐतिहासिक जगह है। यह मकबरा मुगल बादशाह औरंगजेब की पत्नी दिलरस बानो बेगम के याद में बनवाया गया था। यह प्रसिद्ध स्मारक विश्व प्रसिद्ध ताजमहल से मिलता जुलता है। औरंगजेब ने इस मकबरा को ताजमहल की तरह ही अपनी प्यारी पत्नी की याद में बर्ष 1661 में बनवाया था।

एलोरा गुफा का प्रवेश शुल्क – Entry Fee of Ellora Caves in Hindi 

एलोरा गुफाएं में प्रवेश शुल्क प्रति भारतीय के लिए 40 भारतीय मुद्रा है और यहां तक ​​कि सार्क और बिम्सटेक नागरिकों को भी एलोरा गुफाओं में प्रवेश टिकट के रूप में 40 रुपये देना पड़ता है। विदेशियों के लिए गुफा में प्रवेश टिकट 600 रुपये है। 15 साल तक के बच्चों के लिए कई भी प्रवेश शुल्क नहीं है।

एलोरा के गुफाएं खुलने का समय – Visiting Timing of Ellora Caves in Hindi 

एलोरा के गुफाएं सुबह 8 बजे से शाम 5:30 बजे तक खुली रहती हैं और यह  साल भर खुली रहती हैं, सप्ताह में छह दिन यानि मंगलबार को छोड़ कर सप्ताह में किसी भी दिन एलोरा घुमा जा सकता है।

एलोरा की गुफाएं गुमने का सबसे सही समय – Best Time to Visit Ellora Caves 

हालांकि एलोरा साल में किसी भी समय यात्रा किया जा सकता है। लेकिन एलोरा घूमने के लिए सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च है। इन महीनों के दौरान मौसम सबसे अच्छा होता है।

एलोरा केव्स कैसे पहंचे – How to Reach Ellora Caves in Hindi 

वायु मार्ग – By Air : नकटतम हवाई अड्डा औरंगाबाद हवाई है जो एलोरा से लगभग 35 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ है। यह हवाई अड्डा देश के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

रेल मार्ग – By Train : नजदीकी रेलवे स्टेशन औरंगाबाद रेलवे स्टेशन है। इसके अलावा जलगांव रेलवे स्टेशन भी निकटतम रेलवे स्टेशन है जो एलोरा केव्स से लगभग 58 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ है।

सड़क मार्ग – By Road : एलोरा की गुफाएं औरंगाबाद से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ है। एलोरा के लिए औरंगाबाद से नियमित बस सेवाएं उपलब्ध है। इसके अलावा टेक्सी की माध्यम से भी एलोरा आसानी से पहंचा जा सकता है।


और पढ़े :

1 thought on “एल्लोरा केव्स की इतिहास, वास्तुकला और घूमने की जानकारी – Ellora Caves Information in Hindi”

Leave a Comment