Jim Corbett National Park in Hindi – जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी

Jim Corbett National Park in Hindi: जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान भारत के राज्य उत्तराखंड के नैनीताल जिले में स्तिथ सबसे पुराना और प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यान है जो हिमालय पर्वतमाला के तलहटी में स्तिथ है। जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क लुप्तप्राय बंगाल टाइगर की संरक्षण के लिए जाना जाता है। यहाँ वनस्पतियों और जीवों की एक व्यापक  विविधता उपलब्ध है। यह भारत का सबसे पुराना राष्ट्रीय उद्यान है जिसकी स्थापना बर्ष 1936 में हुई थी। तब इसे हैली नेशनल पार्क के नाम से जाना जाता था। जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क अपने बाघों के प्रचुरता और वन्य जीवन की समृद्धि के लिए काफी लोकप्रिय है। यह पहला स्थान था जहां 1973 में प्रोजेक्ट टाइगर लॉन्च किया गया था। यह पार्क पर्यटकों के लिए एक शानदार जगह रहा है जहाँ  प्रकृति की सुन्दर परिदृश्य के अलावा समृद्ध वनजीवन को बहुत करीब से देखने को मौका देता है।

उत्तराखंड राज्य में रामगंगा नदी के किनारे स्थित यह राष्ट्रीय उद्यान भारत का पहला राष्ट्रीय उद्यान है। यह राष्ट्रीय उद्यान  जिम कॉर्बेट नाम पर नामित  किया गया है जिन्होंने इस  राष्ट्रीय उद्यान की स्तापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभई थे। जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क अपनी प्राकृतिक सुंदरता और विविध वन्य जीवन की प्रचुरता के साथ हर साल हजारों पर्यटकों  को अपने और आकर्षित करता है। जंगली जानवरों को उनके प्राकृतिक आवास में देखने के लिए घने जंगल में जीप सफारी का आनद उठाते हुए पर्यटक हरे भरे जंगल के खूबसूरत नजारा को भी देख सकते हैं  पार्क में कई वन्यजीवों को घूमते हुए देखा जा सकता है साथ ही वन्यजीव प्रेमियों के लिए यह किसी स्वर्ग से कम नहीं है।

Jim Corbett National Park in Hindi

और पढ़े : माऊंट अबू के बारे में जानकारी 

History of Jim Corbet National Park in Hindi – जिम कॉर्बेट का इतिहास

  • भारत में सबसे पुराना राष्ट्रीय उद्यान होने के नाते कॉर्बेट नेशनल पार्क एक विशाल और खूबसूरत  इतिहास को दर्शता है
  • एडवर्ड जेम्स क्रेबीट का जन्म 25 जुलाई 1875 को उत्तराखंड के नैनीताल जिले में हुआ था
  • जब जिम कॉर्बेट चार साल के थे तो उनके पिता की मृत्यु हो गई थी इसीलिए वो अपने बचपन का अधिकांश समय आसपास मौजूद जंगल की खोज में बिताते हुए बड़े हुए थे
  • जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क की स्थापना कॉर्बेट द्वारा हैली नेशनल पार्क के रूप में की गई थी
  • आजादी के बाद पार्क का नाम बदलकर रामगंगा राष्ट्रीय उद्यान कर दिया गया और फिर से 1956 में कॉर्बेट नेशनल पार्क का नाम रखा गया। बर्ष 1957 में इस उद्यान का नाम बदलकर जिम कॉर्बेट कर दिया गया
  • शानदार जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान बड़ी संख्या में बाघों का घर होने के लिए प्रसिद्ध है, जो किसी भी भारतीय राष्ट्रीय उद्यान में सबसे अधिक है
  • आप पार्क में तेंदुए, बाघ, सुस्त भालू, हाथी और सियार सहित कई स्तनधारियों पार्क में घूमते हुए देख सकते हैं

Flora and Fauna in Jim Corbett National Park Hindi – जिम कॉर्बेट में पाए जाने वाले बनस्पतियाँ और जीवजंतु

इस पार्क में पौधों की विभिन्न प्रजातियां है और हाथी, बाघ, चीतल, सांभर हरिण, नीलगाय, घड़ियाल, किंग कोबरा, मंटजैक हरिण, जंगली सूअर सहित विभिन्न प्रकार के वन्यजीव शामिल हैं। कांटेदार जंगली चूहा, फ्लाइंग फॉक्स, भारतीय पैंगोलिन और पक्षियों की लगभग 600 विभिन्न प्रजातियां इस राष्ट्रीय उद्यान में देखा जाता है। जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क  521 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। कॉर्बेट नेशनल पार्क भारत के लुप्तप्राय बंगाल टाइगर के लिए जाना जाता है। यह उद्यान देश में सबसे अच्छे प्रबंधित और सुरक्षा क्षेत्रों में से एक है और हर साल हजारों भारतीय और विदेशी आगंतुकों को आकर्षित करता है।

521 वर्ग किमी में फैले जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में पेड़ों की 600 प्रजातियां पाई जा सकती है। घास के मैदान, बांस और झाड़ियों से लेकर पर्वतारोही आदि विभिन्न प्रकार के पेड़ हैं। रिजर्व में पर्याप्त ताजे पानी के साथ साथ अल्पाइन वनस्पतियां भी हैं। यहाँ के पेड़ों की प्रमुख प्रजाति साल है क्यों कि साल के पेड़ और कुल इस राष्ट्रीय उद्यान का लगभग 75 प्रतिशत हिस्सा कवर कर  लेते हैं। चीड़ पाइन एकमात्र शंकुवृक्ष है जिसे इस क्षेत्र में देखा जा सकता है। हालांकि कुछ क्षेत्रों में बांस भी अधिक मात्रा  में पाया जाता है।  जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में पेड़ की कई अन्य प्रजातियां हैं लकिन  उन्हें केवल कम ही देखा जा सकता है। इनके अलावा यहां कचनार, सेमल, जंगल की लौ और ढाक जैसे कई फूल वाले पेड़ हैं।

Jim Corbett National Park in Hindi

Jungle Safari in Jim Corbett National Park in Hindi – जंगल सफारी जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

सबसे पसंदीदा गतिविधियों में से एक जिसके लिए पर्यटक जिम कॉर्बेट आते हैं वह है जंगल सफारी। पर्यटक  जिम कॉर्बेट के पांच अलग अलग क्षेत्रों में से किसी के माध्यम से जंगल सफारी का आनंद ले सकते हैं। ढिकाला, बिजरानी, ​​​​झिरना, ढेला और दुर्गा देवी जोन है जहां से पर्यटक सफारी का आनंद ले सकते हैं। यहां दी जाने वाली तीन प्रकार की सफारी हैं जिनको जीप सफारी, कैंटर सफारी और हाथी सफारी कहा जाता है। पर्यटक इन  सभी सफारियों का आनद उठा सकते हैं और इस पार्क में शानदार जीवों के साथ खूबसूरत स्थान का एक आकर्षक अनुभब प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही पर्यटकों को जंगल से गुजरते हुए हाथी, हिरण, लंगूर, तेंदुआ, मगरमछ जैसे जंगली जानवरों को देख सकते हैं।

jungle safari

 

Bijrani Safari Zone – बिजरानी ज़ोन जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान

बिजरानी ज़ोन जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में सबसे अच्छी जीप सफारी प्रदान करता है। कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान का यह खूबसूरत जगह  मुख्य रूप से अपने बड़े घास के मैदान जैसे चौर और घने साल वन और नदी धाराओं के लिए ध्यान देने योग्य है। पर्यटक न केवल बाघ बल्कि विभिन्न प्रकार के जानवरों जैसे सांभर, चीतल, हाथी और काले भालू को भी देख सकते हैं।

Dhikala Zone  – ढिकाला ज़ोन जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

ढिकाला जोन अपनी प्राकृतिक सुंदरता के साथ  विदेशी जीवों के लिए सबसे प्रसिद्ध है। ढिकाला ज़ोन सबसे बड़ा क्षेत्र है जिसमें बड़े घास के मैदान और सुंदर प्राकृतिक परिदृश्य शामिल हैं, यह वन्यजीव प्रेमियों द्वारा रात के ठहरने के लिए सबसे उपयुक्त विकल्प है। इस क्षेत्र में अन्य जानवर भी देखे जाते हैं जैसे जंगली हाथी, चित्तीदार हिरण, जंगली सूअर, हॉग हिरण और भौंकने वाले हिरण।

Jhirna Zone  – जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान झिरना ज़ोन

घने जंगली और घास के मैदान के साथ  यह क्षेत्र कॉर्बेट नेशनल पार्क के दक्षिणी किनारे पर स्थित है। क्यों कि यह क्षेत्र दिन भर पर्यटकों के लिए खुला रहता है, इसलिए यह सबसे अधिक देखे जाने वाले क्षेत्रों में से एक है। जंगली भालू, बाघ इस क्षेत्र का मुख्य आकर्षण हैं।

Dhela Zone – जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क ढेला ज़ोन

ढेला जोन अपने समृद्ध वनस्पतियों और जीवों के कारण बड़ी संख्या में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करता है जो पूरे साल खुला रहता है। इस क्षेत्र में मिश्रित टोपोलॉजी शामिल है जिसमें घने जंगल या पेड़ है जैसे  साल, हल्दू, बहेरा, रोहिणी और कुसुम आदि पेड़ पाया जाता है। यह क्षेत्र पक्षियों के लिए सबसे अच्छा क्षेत्र है।

Durga Devi zone – जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क दुर्गा देवी जोन

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क के उत्तरपूर्वी हिस्से में स्तिथ दुर्गा देवी जोन  पार्क में सबसे सुंदर परिदृश्य पेश करता है। दुर्गा देवी ज़ोन पहाड़ियों पर स्थित है और वन्य जीवन की विविधता के साथ प्रकृति का सबसे मनमोहक दृश्य प्रस्तुत करता है। इस क्षेत्र की वनस्पतियों की प्रमुख प्रजातियों में शीशम, सिसू, ढाक और खैर शामिल हैं जो पार्क में अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। दुर्गा देवी  जोन हर साल 15 अक्टूबर से 15 जून तक पर्यटकों के लिए खुला रहता है।

jim corbett national park

Best Time to Visit Jim Corbett National Park in Hindi – जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान में घूमने का सही समय

हालाँकि  जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क साल में किसी भी समय यात्रा किया जा सकता है लकिन जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान में घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरवरी तक का समय सबसे बढ़िया माना जाता है। इन महीनो में यहाँ का तापमान बहुत ही सुखद रहता है जो घूमने के लिहाज से काफी अच्छा है।

How to Reach Jim Corbett National Park in Hindi – जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान कैसे पहंचे

हवाई मार्ग: पंतनगर हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है जो जिम कॉर्बेट से लगभग 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पटनगर एयरपोर्ट से जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क के लिए टैक्सी आसानी से उपलब्ध है।

रेल मार्ग: रामनगर रेलवे स्टेशन  भारत के दिल्ली, मुरादाबाद और बरेली जैसे  शहरों से जुड़ा हुआ है। रामनगर के लिए सीधी ट्रेन दिल्ली से चलती है।

सड़क मार्ग: जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान उत्तरी भारत के प्रमुख पर्यटन स्थल होने के कारण यह सड़कों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। उत्तराखंड के प्रमुख शहरों से कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान के लिए टैक्सी आसानी से उपलब्ध हैं। साथ ही दिल्ली से रामनगर के लिए कई निजी बस सेवा उपलब्ध है।

 

All Images Credit : wikimedia commons 

 

 

 

 

 

 

 

2 thoughts on “Jim Corbett National Park in Hindi – जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान की जानकारी”

  1. 1] what is cost of jeep safari Or Elephant safari ?
    2] how many days required to visit jim corbett ?
    3] where is the stay for 15 member group ?

    Reply

Leave a Comment